“जनाना” नहीं “मर्दाना” यात्री…पिंक ऑटो में

रांची शहर में पिंक ऑटो का कांसेप्ट लगभग बदलता दिखा…..

ऑटो चालकों की मजबूरी तो देखिये…..जानना (लेडीज) यात्री के बजाय अब वो मर्दाना(जेंट्स) को भी तवज़्ज़ो देने लगी हैं….

ज़ाहिर सी बात है कि महिला यात्रियों की कमी होने की ही वजह से ऑटो चालकों को ये कदम उठाना पड़ता होगा…पापी पेट सवाल है भाई….

पर इस बात से भी इंकार नही किया जा सकता कि हमारे देश में स्कीम्स तो चालू होते हैं बहुत…पर उनके साइड इफेक्ट्स भी कुछ कम नही।

Advertisements