यह मासूम बच्चा मात्र 5 महीने का था एवं इसका नाम प्रदीप प्रमाणिक है! मासूम प्रदीप को इलाज के लिए TMH अस्पताल (जमशेदपुर) में भर्ती किया गया था मगर इलाज करने के बहाने उसपर परीक्षण किया जा रहा था एवं बिल बनाया जा रहा था! स्थानीय समाजसेवियों द्वारा विरोध करने पर अस्पताल ने लगभग 8 लाख रूपये का बिल माफ़ कर दिया था। सरकार एवं प्रशासन से प्रदीप का किसी अच्छे निजी अस्पताल में सरकारी खर्चे पर इलाज करने का आग्रह किया था मगर प्रदीप को मरने के लिए छोड़ दिया गया था! सरकार एवं प्रशासन ने मासूम प्रदीप का इलाज करने हेतु कोई मदद उपलब्ध नही कराया गया था जिसके वजह से मासूम प्रदीप की मृत्यु दिनांक: 06/08/2017 को शाम करीब 7 बजे हो गई थी!

देश के सभी नागरिक कड़ी मेहनत कर के मंत्रियों, सांसदों, विधायकों, सरकारी अधिकारीयों एवं कर्मचारियों को वेतन देते है मगर ये सभी मिलकर भी एक गरीब के बच्चे को बचा नही पाते है! हम सभी के बच्चे है एवं हम उनके लिए कुछ भी करने को तैयार है! एक माँ ने अपने 5 माह के पुत्र को खो दिया है जिसका दर्द सिर्फ एक माँ/जननी ही समझ सकती है।
 

Advertisements